November 29, 2022

किसान मंडी भाव

खेती किसानी व मंडी भाव से जुडी हर खबर पर नजर…

MSP : पांच दिन खरीदी ओर दो दिन होगा हिसाब, ताकि अटके न भुगतान




म.प्र – गुरुवार से गेहूं की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद पूरे मध्य प्रदेश में शुरु होने जा रही है। कोरोना संक्रमण की स्थितियों को देखते हुए किसी भी केंद्र पर 20 से ज्यादा किसानों की एक समय में मौजूदगी पर रोक लगाई गई है। वहीं, भुगतान में किसी प्रकार की समस्या न हो, इसलिए खरीद सप्ताह में पांच दिन होगी। दो दिन हिसाब-किताब होगा और परिवहन की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। 

गर्मी को देखते हुए उपार्जन केंद्रों में किसानों के बैठने के लिए छांव और पानी का इंतजाम रखने के निर्देश दिए गए हैं। उधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अधिकारियों से कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की समस्या न आए, यह जरूर सुनिश्चित कर लें। 

प्रदेश में समर्थन मूल्य (1,975 रुपये प्रति क्विंटल) पर गेहूं बेचने के लिए 24 लाख से अधिक किसानों ने पंजीयन कराया है। इंदौर और उज्जैन संभाग में खरीद प्रारंभ हो गई है। नागरिक आपूर्ति निगम के प्रबंध संचालक अभिजीत अग्रवाल ने बताया कि किसानों से उपज बेचने के लिए तीन तारीखें ली गई हैं। कृषि मंत्री कमल पटेल ने किसानों से कहा कि जल्दबाजी न करें। एक-एक किसान से गेहूं खरीदा जाएगा।


यहां करें शिकायत 

किसानों को फसल बेचने से लेकर भुगतान तक में कोई समस्या न हो, इसका इंतजाम सरकार ने किया। इसके बाद भी यदि कोई समस्या आती है तो उस संबंध में किसान टोल फ्री सीएम हेल्प लाइन नंबर 181 पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। वहीं, उपार्जन के काम से जुड़ी समस्या के समाधान के लिए राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम बनाया गया है। इसका नंबर 0755-2551471 है।




भंडारण के इंतजाम अब भी नाकाफी 

आग से फसल को हुए नुकसान की भरपाई करेगी मध्‍य प्रदेश सरकार आग से फसल को हुए नुकसान की भरपाई करेगी मध्‍य प्रदेश सरकार यह भी पढ़ें मालवा-निमाड़ अंचल में नईदुनिया की पड़ताल में सामने आया कि कुछ जिलों के गोदामों में अब तक गत वर्ष खरीदा गया अनाज मौजूद है तो वहीं कुछ जिलों में भंडारण की पर्याप्त जगह नहीं है। ऐसे में संकट खड़ा हो सकता है। 

मंदसौर : जिले में 2.25 लाख टन उपज की खरीदी होगी। 146 गोदामों में भंडारण होगा। पिछले साल जिले में गेहूं की 2.80 लाख टन खरीदी हुई थी। गोदामों में एक लाख मीट्रिक टन गेहूं भरा है। 

खंडवा : जिले में 2 लाख 30 हजार मीट्रिक टन गेहूं उपार्जन का लक्ष्य है। भंडारण के लिए 65 गोदाम हैं। इनकी क्षमता साढ़े तीन लाख टन गेहूं की है। 



आलीराजपुर : जिले में 3200 टन गेहूं उपार्जन का लक्ष्य है। यहां भंडारण की पर्याप्त व्यवस्था है। खरगोन : जिले में दो लाख टन खरीदी का लक्ष्य है। 61 गोदामों में 1 लाख 63 हजार टन गेहूं भंडारण की क्षमता है, वहीं करीब 28 हजार टन गेहूं को जरूरत पड़ने पर ओपन कैप में रखा जाएगा। 

शाजापुर : जिले में चार लाख 80 हजार उपज की खरीदी की संभावना है। चार लाख 30 हजार टन उपज गोदामों में रखेंगे। शेष सायलो सेंटर में भंडारण होगा। 

धार : जिले में गेहूं की खरीदी का लक्ष्य तीन लाख 75 हजार टन है। जिले के 98 गोदामों की क्षमता 3 लाख 66 हजार है।



(Visited 4 times, 1 visits today)