November 28, 2022

किसान मंडी भाव

खेती किसानी व मंडी भाव से जुडी हर खबर पर नजर…

IFFCO के नैनो फर्टिलाइजर : नैनो यूरिया तरल के लाभ और सावधानियां

उर्वरक का उत्पादन करने वाली दुनिया की सबसे बड़ी सहकारी संस्था इफको (IFFCO) ने नैनो तकनीक (nano technology) पर आधारित नैनो नाइट्रोजन, नैनो जिंक और नैनो कॉपर तैयार किए हैं. इनका देशभर में बड़े पैमाने पर ट्रायल किया गया है. खास बात ये है कि ट्रायल में इनक अच्छे नतीजे सामने आए हैं.

इफको का दावा है कि इन नैनो उत्पादों (Nano nitrogen, Zinc and Copper ) से इस समय किसान जिस मात्रा में उर्वरकों (Chemical fertilisers) का इस्तेमाल अपने खेत में करते हैं, उसमें कमी आएगी और साथ ही फसल की पैदावार पर भी असर पड़ेगा. यानी किसानों का डबल फायदा.

इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी के मुताबिक, गुजरात के कलोल में इफको के प्लांट की लैब में नैनो नाइट्रोजन, नैनो जिंक और नैनो कॉपर को तैयार किया गया है. 

इन तीनों नैनो उत्पादों से मिट्टी, किसान और पर्यावरण तीनो को फायदा मिलेगा और परंपरागत उर्वरकों की खपत में 50 फीसदी तक की कमी आएगी. इससे खेती की लागत में भी कमी आएगी.

इफको ने भारत में पहला नैनो नाइट्रोजन (Nano Urea) तैयार किया है जिसे यूरिया के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है. नैनो नाइट्रोजन का सही तरीके से इस्तेमाल करने पर यह यूरिया की खपत को 50 फीसदी तक कम कर सकता है. नैनो जिंक (Nano Zinc) को जिंक उर्वरक के विकल्प के रूप में विकसित किया गया है. नैनो जिंक का इस्तेमाल करने पर जिंक की पूरी मात्रा पौधों को मिलेगी. इससे पौधों में जिंक ग्रहण करने की क्षमता का विकास होगा. इसका फसल की पैदावार पर सीधा असर पड़ेगा.

तीसरा उत्पाद इफको नैनो कॉपर (Nano Copper) है जो पौधे को पोषण और सुरक्षा, दोनों में मदद करता है. इसे कवकनाशी के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है. यह पौधे में नुकसान पहुंचाने वाले कीटों से लड़ने की ताकत पैदा करता है. इससे पौधे में ग्रोथ हारमोन तेजी से बढ़ते हैं और पैधा भी तेजी से विकास करता है. नैनो कॉपर का कृषि रसायन के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकेगा.

जाने नैनो यूरिया के लाभ (Know the benefits of Nano Urea)

  • यह सभी फसलों के लिए उपयोगी है.
  • सुरक्षित एवं पर्यावरण के अनुकूल टिकाऊ खेती हेतु उपयोगी है.
  • बिना उपज प्रभावित किए यूरिया तथा अन्य नाइट्रोजन युक्त यूरिया की बचत करता है.
  • वातावरण प्रदूषण की समस्या से मुक्ति यानि मिट्टी हवा और पानी की गुणवत्ता में सुधार के साथ उर्वरक उपयोग दक्षता भी इसकी अधिक है.
  • उत्पादन वृद्धि के साथ उत्पादक गुणवत्ता में वृद्धि होती है.
  • परिवहन एवं भंडारण खर्चों में कमी एवं सुगम परिवहन किया जा सकता है.

यूरिया की कालाबाजारी से भी मिलेगा छुटकारा
बता दें कि देश के कई जिलों में किसानों को पीक सीजन में अपेक्षा से 50 से 100 रुपए तक प्रति बोरी ज्यादा देकर यूरिया खरीदनी पड़ती थी. कई राज्यों में रेट को लेकर विवाद के कारण दूरदराज के इलाकों में खाद मिलने में काफी दिक्कत तक होती थी, लेकिन अब नैनो यूरिया की नई तकनीक के जरिए यूरिया की किल्लत से छुटकारा मिलेगा. साथ ही बर्बादी से भी निजात मिलेगी. कई राज्यों में तो कालाबाजारी पर भी लगाम लगेगा.

तरल नैनो यूरिया की उपयोग विधि (Application method of Liquid Nano Urea)

नैनो यूरिया का 2 से 4 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी के घोल का खड़ी फसल में छिड़काव करना चाहिए. नाइट्रोजन की कम आवश्यकता वाली फसलों में 2 मिलीलीटर एवं नाइट्रोजन की अधिक आवश्यकता वाली फसलों में 4 मिलीलीटर तक नैनो यूरिया प्रति लीटर पानी की दर से उपयोग किया जा सकता है. अनाज तेल सब्जी कपास इत्यादि फसलों में दो बार तथा दलहनी फसलों में एक बार नैनो यूरिया का उपयोग किया जा सकता है, जिसमें पहला छिड़काव अंकुरण या रोपाई के 30 से 35 दिन बाद तथा दूसरा छिड़काव फूल आने के 1 सप्ताह पहले किया जा सकता है. एक एकड़ खेत के लिए प्रति छिड़काव लगभग 150 लीटर पानी की मात्रा पर्याप्त होती है.

उपयोग करने के दिशा निर्देश तथा सावधानियां (Directions and Precautions for use)

  • उपयोग से पहले अच्छी तरह से बोतल को हिलाएं.
  • प्लेट फैन नोजल का उपयोग करें.
  • सुबह या शाम के समय छिड़काव करें. तेज धूप, तेज हवा तथा और ओस हो तब इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
  • यदि नैनो यूरिया के छिड़काव के 12 घंटे के भीतर बारिश होती है तो छिड़काव को दोहराना चाहिए.
  • जैव- उत्प्रेरक जैसे सागरिका, 100% घुलनशील उर्वरकों और कृषि रसायनों के साथ मिलाकर उपयोग किया जा सकता है. लेकिन जार परीक्षण करके ही प्रयोग करें.
  • बेहतर परिणाम के लिए नैनो यूरिया का उपयोग इसके निर्माण की तारीख से 2 वर्ष के अंदर कर लेना चाहिए.
  • नैनो यूरिया विश मुक्त है, फिर भी सुरक्षा की दृष्टि से फसल पर छिड़काव करते समय फेस मास्क और दस्ताने का उपयोग करने की सलाह दी जाती है.
  • नैनो यूरिया को बच्चों और पालतू जानवरों की पहुंच से दूर ठंडी और सूखी जगह पर ही रखे.

नैनों यूरिया की कीमत और बिक्री केन्द्र (Nano Urea Price and Sales Center)

इसकी 500 मिली बोतल की कीमत लगभग 240 रूपये रखी गई है. खरीदने हेतु अपने नजदीकी इफको बिक्री केंद्र पर संपर्क करें अथवा वेबसाइट www.iffcobazar.in पर ऑनलाइन आर्डर करके सीधे अपने घर पर मंगवा सकते हैं. अधिक जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 1800-103-1967 या ई-मेल आईडी [email protected] पर भी संपर्क किया जा सकता है.  

(Visited 527 times, 1 visits today)